Tag Archives: human rights

India and the CHOGM in Sri Lanka: Well Played, Actually

Published as जबिन टी. जैकब, ‘श्रीलंका पर सही फैसला’, Dainik Jagran, 12 November 2013.

Original text in English follows below

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इस सप्ताह श्रीलंका में राष्ट्रमंडल देशों के शासनाध्यक्षों के सम्मेलन (चोगम) में भाग लेने नहीं जा रहे हैं। प्रधानमंत्री का यह फैसला एक राजनेता के साथ ही सरकार के मुखिया की हैसियत से लिया गया एक सुलझा हुआ निर्णय है। मीडिया के एक वर्ग द्वारा चोगम में प्रधानमंत्री के भाग न लेने को अनुचित ठहराना और इसे राजनीतिक दबाव में राष्ट्रीय हितों की बलि करार देना बिल्कुल गलत है। प्रधानमंत्री से सबसे पहली और महत्वपूर्ण अपेक्षा देश को चलाने की होती है और देश चलाते हुए उन्हें निर्वाचन प्रक्रिया से अपनी पार्टी को मिले जनादेश पर बराबर ध्यान रखना पड़ता है। निर्वाचन प्रक्त्रिया ही केंद्र में सरकार का स्वरूप निर्धारित करती है। ऐसे में सरकार पर गठबंधन के सहयोगी विभिन्न क्षेत्रीय दलों का प्रभाव स्वाभाविक ही है।

विदेश में भारत के राष्ट्रीय हितों और घरेलू राजनीतिक दबाव में अंतर्विरोध जरूरी नहीं है। Continue reading India and the CHOGM in Sri Lanka: Well Played, Actually

Advertisements

Chen Guangcheng: One Blind Man in a Tale of Two Governments

In late April, 40-year old blind Chinese civil rights activist, Chen Guangcheng dramatically escaped house arrest and turned up at the US embassy in Beijing seeking refuge. After several twists and turns, it seems that a deal has been struck between Beijing and Washington that will allow the activist to leave China together with his family on the pretext of pursing higher studies. While the incident has probably not yet reached its denouement, it nevertheless provides a useful opportunity to reflect on the evolving Sino-US relationship. Continue reading Chen Guangcheng: One Blind Man in a Tale of Two Governments

Indian Democracy’s China Responsibility

Between 1851 and 1864, China was convulsed by the Taiping rebellion against the Qing dynasty. Britain using its Indian troops intervened on behalf of the Qing in order to try and put down the insurrection. However, from 1857 onwards, when the sepoy mutiny broke out in India, small numbers of Indian soldiers inspired by events back home often switched sides to join the Chinese rebels in the ‘anti-imperial’ struggle. [1] Continue reading Indian Democracy’s China Responsibility