Mukherjee in Arunachal: Of China and Other Matters

Originally published as Jabin T. Jacob, Doing Business with the Dragon’, Hindustan Times (New Delhi), 4 December 2013, p. 14.

Another high-level official visit to Arunachal from New Delhi and another protest from China. So what’s new, one might ask.

As President Pranab Mukherjee noted in his convocation address at the Rajiv Gandhi University in Arunachal, the state “is on the threshold of a major economic transformation.” This transformation has both domestic and international implications and the Sino-Indian contretemps around the President’s visit provides an opportunity to examine these in some detail.Read More »

Advertisements

3rd Plenum, 18th CC: A Reformist Agenda but Challenges Ahead

First published as जेबीन टी जैकब, ‘सीपीसी के विरोधाभासी संदेशों का बंडल’, Business Bhaskar (New Delhi), 28 November 2013, p. 4.

 

(Original text in English follows below)

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) की 18 वीं सेंट्रल कमिटी की तीसरी प्लेनरी (विशेषाधिकार प्राप्त महत्वपूर्ण और वरिष्ठ सदस्यों की सभा) इस महीने आयोजित हुई। इस प्लीनम (महासभा) में सेंट्रल कमिटी के 205  सदस्यों के अलावा 171 अन्य सदस्य होते हैं जो महत्वपूर्ण नीतिगत मसलों पर चर्चा कर किसी नतीजे पर पहुंचते हैं। किसी भी सेंट्रल कमिटी की तीसरी प्लीनम का महत्व इसलिए है कि नया नेतृत्व प्राय: इसका उपयोग अपनी नई आर्थिक नीतियों की घोषणा करने के अवसर के रूप में करता है।Read More »